Your browser does not support JavaScript!

G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka 110075 New Delhi IN
जे के पी लिटरेचर
G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka New Delhi, IN
+918588825815 https://www.jkpliterature.org.in/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/621dbb04d3485f1d5934ef35/logo-18-480x480.png" [email protected]
6505a0902c3edf6c8c0f06e2 धाम माधुरी: 5वाँ अध्याय-प्रेम रस मदिरा - ईबुक हिन्दी https://www.jkpliterature.org.in/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/6505a0922c3edf6c8c0f06f8/5.jpg जगद्गुरूत्तम श्री कृपालु जी महाराज ये सर्वोत्तम भक्तिपूर्ण पद, श्री राधा कृष्ण के दिव्य धामों की अलौकिक सुंदरता और पवित्रता की एक झलक प्रस्तुत करते हैं। वृन्दावन के कुंजों की हरियाली से लेकर यमुना नदी के रेतीले किनारों तक, सुन्दर रत्नों से जटित गिरी गोवर्धन से श्री राधा कुंड की मोहकता तक, बरसाना की आकर्षक वन्यभूमि से लेकर बरसाने के मणिओं से उज्जवल सरोवर तक, श्री कृपालु जी की रचनाएँ जीवों के मन एवं इंद्रियों को भक्ति भावना से समृद्ध कर देती हैं। भक्ति के इस महान संग्रह / महान निधि, 'प्रेम रस मदिरा' का यह पाँचवा अध्याय है। 'प्रेम रस मदिरा' के दिव्य अद्वितीय 1008 भक्ति से परिपूर्ण पद वेदों, पुराणों, उपनिषदों आदि के सिद्धांतों पर आधारित हैं। PRM Hindi ebook Ch 5
in stock USD 100
1 1

धाम माधुरी: 5वाँ अध्याय-प्रेम रस मदिरा - ईबुक हिन्दी

भाषा - हिन्दी



SHARE PRODUCT
प्रकार विक्रेता मूल्य मात्रा

विवरण

जगद्गुरूत्तम श्री कृपालु जी महाराज ये सर्वोत्तम भक्तिपूर्ण पद, श्री राधा कृष्ण के दिव्य धामों की अलौकिक सुंदरता और पवित्रता की एक झलक प्रस्तुत करते हैं। वृन्दावन के कुंजों की हरियाली से लेकर यमुना नदी के रेतीले किनारों तक, सुन्दर रत्नों से जटित गिरी गोवर्धन से श्री राधा कुंड की मोहकता तक, बरसाना की आकर्षक वन्यभूमि से लेकर बरसाने के मणिओं से उज्जवल सरोवर तक, श्री कृपालु जी की रचनाएँ जीवों के मन एवं इंद्रियों को भक्ति भावना से समृद्ध कर देती हैं। भक्ति के इस महान संग्रह / महान निधि, 'प्रेम रस मदिरा' का यह पाँचवा अध्याय है। 'प्रेम रस मदिरा' के दिव्य अद्वितीय 1008 भक्ति से परिपूर्ण पद वेदों, पुराणों, उपनिषदों आदि के सिद्धांतों पर आधारित हैं।

विशेष विवरण

भाषा हिन्दी
शैली / रचना-पद्धति संकीर्तन
फॉर्मेट ईबुक
वर्गीकरण प्रमुख रचना
लेखक जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज
प्रकाशक राधा गोविंद समिति

पाठकों के रिव्यू

  0/5