Your browser does not support JavaScript!

G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka 110075 New Delhi IN
जे के पी लिटरेचर
G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka New Delhi, IN
+918588825815 https://www.jkpliterature.org.in/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/621dbb04d3485f1d5934ef35/logo-18-480x480.png" [email protected]
9789380661551 619c9183a3460945dfe57e61 साधना में बाधा - हिन्दी https://www.jkpliterature.org.in/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/619cf84f4b32d84c40412274/060-book-boxset-small-spine-mockup-covervault.jpg

साधना करते समय साधक को अत्यधिक सावधान रहने की आवश्यकता है। थोड़ी सी भी असावधानी से उसका सारा परिश्रम व्यर्थ चला जाता है। लापरवाही के कारण वह जितना कमाता है उससे अधिक गवाँ देता है। साधना करते समय अनेक प्रकार की बाधायें आती हैं, उस समय किस प्रकार से आगे बढ़ा जाय, यह समझना परमावश्यक है। समय समय पर श्री महाराज जी ने अत्यधिक आत्मीयता के साथ इस विषय पर प्रकाश डालते हुए साधकों को समझाया है। कई बार कठोर शिक्षक की भाँति भी व्यवहार किया है। परम हितैषी, सद्गुरु वैद्य परम कृपालु गुरुवर द्वारा भवरोग औषधि के साथ साथ जो परहेज आवश्यक है, वह इस पुस्तक में उन्हीं के शब्दों में प्रकाशित किया गया है।

Sadhna Me Badha - Hindi
in stockUSD 116
1 1
साधना में बाधा - हिन्दी

साधना में बाधा - हिन्दी

सावधान! साधना में यह गलती भूल कर भी न करना।
भाषा - हिन्दी

$1.39
$1.79   (23%छूट)


विशेषताएं
  • ये बात सदा याद रखो साधना में कभी बाधा नहीं आयेगी।
  • बड़े-बड़े साधकों का पतन किन गलतियों से हो जाता है।
  • साधना के साथ ये गलती की तो सब व्यर्थ हो जायेगा
  • सावधान! ये 10 अपराध जो साधक का पतन कर देते हैं?
  • साधना में यदि बार-बार गिरते हैं तो इसे जरूर पढ़ें।
SHARE PRODUCT
प्रकारविक्रेतामूल्यमात्रा

विवरण

साधना करते समय साधक को अत्यधिक सावधान रहने की आवश्यकता है। थोड़ी सी भी असावधानी से उसका सारा परिश्रम व्यर्थ चला जाता है। लापरवाही के कारण वह जितना कमाता है उससे अधिक गवाँ देता है। साधना करते समय अनेक प्रकार की बाधायें आती हैं, उस समय किस प्रकार से आगे बढ़ा जाय, यह समझना परमावश्यक है। समय समय पर श्री महाराज जी ने अत्यधिक आत्मीयता के साथ इस विषय पर प्रकाश डालते हुए साधकों को समझाया है। कई बार कठोर शिक्षक की भाँति भी व्यवहार किया है। परम हितैषी, सद्गुरु वैद्य परम कृपालु गुरुवर द्वारा भवरोग औषधि के साथ साथ जो परहेज आवश्यक है, वह इस पुस्तक में उन्हीं के शब्दों में प्रकाशित किया गया है।

विशेष विवरण

भाषाहिन्दी
शैली / रचना-पद्धतिसिद्धांत
विषयवस्तुछोटी किताब, अभ्यास की शक्ति
फॉर्मेटपेपरबैक
वर्गीकरणसंकलन
लेखकजगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज
प्रकाशकराधा गोविंद समिति
पृष्ठों की संख्या89
वजन (ग्राम)95
आकार12.5 सेमी X 18 सेमी X 0.8 सेमी
आई.एस.बी.एन.9789380661551

पाठकों के रिव्यू

  0/5