Your browser does not support JavaScript!

G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka 110075 New Delhi IN
जे के पी लिटरेचर
G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka New Delhi, IN
+918588825815 //d2pyicwmjx3wii.cloudfront.net/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/621dbb04d3485f1d5934ef35/webp/logo-18-480x480.png" rgs@jkpliterature.org.in
61e6d27e0cd030dfb26e355e महापुरुष ईबुक //d2pyicwmjx3wii.cloudfront.net/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/61e6dbc73d0d6a9344ccd5c1/webp/7.jpg

मन को संसार से विलग कर ईश्वर को अर्पित करने से पहले एक दिव्य सत्ता की आवश्यकता होती है, जिसके बिना ईश्वर को प्राप्त नहीं किया जा सकता। उस इकाई को ईश्वर-प्राप्त संत कहा जाता है। हम एक सच्चे संत की पहचान उन लोगों में से कैसे कर सकते हैं जो एक होने का ढोंग करते हैं?

Mahapurush - Hindi - Ebook
in stock INR 50
1 1

महापुरुष ईबुक

भाषा - हिन्दी



प्रकार विक्रेता मूल्य मात्रा

विवरण

मन को संसार से विलग कर ईश्वर को अर्पित करने से पहले एक दिव्य सत्ता की आवश्यकता होती है, जिसके बिना ईश्वर को प्राप्त नहीं किया जा सकता। उस इकाई को ईश्वर-प्राप्त संत कहा जाता है। हम एक सच्चे संत की पहचान उन लोगों में से कैसे कर सकते हैं जो एक होने का ढोंग करते हैं?

विशेष विवरण

भाषा हिन्दी
शैली / रचना-पद्धति सिद्धांत
फॉर्मेट ईबुक
लेखक जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज
प्रकाशक राधा गोविंद समिति

पाठकों के रिव्यू

  0/5