Your browser does not support JavaScript!

G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka 110075 New Delhi IN
जे के पी लिटरेचर
G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka New Delhi, IN
+918588825815 https://www.jkpliterature.org.in/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/621dbb04d3485f1d5934ef35/logo-18-480x480.png" [email protected]
6505a0c72c3edf6c8c0f0c06 रसिया मधुरी: 20वां अध्याय- प्रेम रस मदिरा https://www.jkpliterature.org.in/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/6505a0c92c3edf6c8c0f0c1c/20.jpg जगद्गुरूत्तम श्री कृपालु जी महाराज श्री राधा कृष्ण के दिव्य धाम के विविध पहलुओं की एक झलक प्रदान करते हैं। प्रस्तुत माधुरी में कुछ सबसे लम्बे पद हैं जो श्री महाराज जी ने लिखे हैं। प्रत्येक पद एक मणि के समान है, जो विभिन्न प्रकार की लीलाओं, जैसे रास नृत्य, गोवर्धन पर्वत की धन्यता और बरसाने की कुञ्ज गलियों से बरसते आनंद का अनुभव करवाते हैं। भक्ति के इस महान संग्रह / महान निधि, 'प्रेम रस मदिरा' का यह बीसवाँ अध्याय है। 'प्रेम रस मदिरा' के दिव्य अद्वितीय 1008 भक्ति से परिपूर्ण पद वेदों, पुराणों, उपनिषदों आदि के सिद्धांतों पर आधारित हैं। PRM Hindi ebook Ch 20
in stock USD 100
1 1

रसिया मधुरी: 20वां अध्याय- प्रेम रस मदिरा

भाषा - हिन्दी



SHARE PRODUCT
प्रकार विक्रेता मूल्य मात्रा

विवरण

जगद्गुरूत्तम श्री कृपालु जी महाराज श्री राधा कृष्ण के दिव्य धाम के विविध पहलुओं की एक झलक प्रदान करते हैं। प्रस्तुत माधुरी में कुछ सबसे लम्बे पद हैं जो श्री महाराज जी ने लिखे हैं। प्रत्येक पद एक मणि के समान है, जो विभिन्न प्रकार की लीलाओं, जैसे रास नृत्य, गोवर्धन पर्वत की धन्यता और बरसाने की कुञ्ज गलियों से बरसते आनंद का अनुभव करवाते हैं। भक्ति के इस महान संग्रह / महान निधि, 'प्रेम रस मदिरा' का यह बीसवाँ अध्याय है। 'प्रेम रस मदिरा' के दिव्य अद्वितीय 1008 भक्ति से परिपूर्ण पद वेदों, पुराणों, उपनिषदों आदि के सिद्धांतों पर आधारित हैं।

विशेष विवरण

भाषा हिन्दी
शैली / रचना-पद्धति संकीर्तन
फॉर्मेट ईबुक
वर्गीकरण प्रमुख रचना
लेखक जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज
प्रकाशक राधा गोविंद समिति

पाठकों के रिव्यू

  0/5