Your browser does not support JavaScript!

G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka 110075 New Delhi IN
जे के पी लिटरेचर
G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka New Delhi, IN
+918588825815 https://www.jkpliterature.org.in/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/621dbb04d3485f1d5934ef35/logo-18-480x480.png" [email protected]
9789390373246 61f0217ee7ee1e2c42ec2991 भगवद् गीता ज्ञान - भक्त का कभी पतन नहीं होता - हिन्दी https://www.jkpliterature.org.in/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/61f02d2ef9467244d0510084/1gita-gyan-series-4.jpg

गीता का उदघोष

तुम लोग चिन्ता न करो। तुम्हारे योगक्षेम को 'मैं' वहन करूँगा, डायरेक्ट ‘मैं’। जो तुमको नहीं मिला है मटीरियल या स्पिरिचुअल, वह सब मैं दूँगा और जो मिला है, उसकी मैं रक्षा करूँगा - फिजिकल भी और स्पिरिचुअल दोनों।

गीता में भगवान् ने आश्वासन दिया है कि जिनका मन निरन्तर मुझमें लगा रहता है उनका योगक्षेम मैं वहन करता हूँ।

अनन्याश्चिन्तयन्तो मां ये जनाः पर्युपासते। तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम्॥ (गीता ९.२२)

मेरे भक्त का कभी पतन नहीं होता। इस सिद्धान्त से सम्बन्धित जगद्गुरु कृपालु जी महाराज द्वारा समय समय पर दिये गये प्रवचनों का संकलन किया गया है। शरणागति और भगवान् की अनन्य भक्ति यही गीता का प्रमुख का सिद्धान्त है। इस गूढ़ सिद्धान्त को आचार्य श्री ने इतनी सरल भाषा में प्रस्तुत किया है कि बिना पढ़ा लिखा गँवार भी समझ जाय।

Bhagavad Gita Jnana Bhakt Ka Vol 5 - Hindi
in stock USD 85
1 1

भगवद् गीता ज्ञान - भक्त का कभी पतन नहीं होता - हिन्दी

भगवान् द्वारा भक्त के लिये प्रकट किये दिव्य उद्धगार
भाषा - हिन्दी

$1.02
$2.39   (57%छूट)


विशेषताएं
  • भगवान् कृष्ण का अपने भक्तों को किया हुआ वादा।
  • शरणागति का क्या मतलब है? हम भगवान् की ओर आसानी से कैसे बढ़ सकते हैं?
  • भक्त और भगवान् का आंतरिक रहस्य।
  • भगवान् भक्त का योगक्षेम वहन किस तरह करते हैं?
SHARE PRODUCT
प्रकार विक्रेता मूल्य मात्रा

विवरण

गीता का उदघोष

तुम लोग चिन्ता न करो। तुम्हारे योगक्षेम को 'मैं' वहन करूँगा, डायरेक्ट ‘मैं’। जो तुमको नहीं मिला है मटीरियल या स्पिरिचुअल, वह सब मैं दूँगा और जो मिला है, उसकी मैं रक्षा करूँगा - फिजिकल भी और स्पिरिचुअल दोनों।

गीता में भगवान् ने आश्वासन दिया है कि जिनका मन निरन्तर मुझमें लगा रहता है उनका योगक्षेम मैं वहन करता हूँ।

अनन्याश्चिन्तयन्तो मां ये जनाः पर्युपासते। तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम्॥ (गीता ९.२२)

मेरे भक्त का कभी पतन नहीं होता। इस सिद्धान्त से सम्बन्धित जगद्गुरु कृपालु जी महाराज द्वारा समय समय पर दिये गये प्रवचनों का संकलन किया गया है। शरणागति और भगवान् की अनन्य भक्ति यही गीता का प्रमुख का सिद्धान्त है। इस गूढ़ सिद्धान्त को आचार्य श्री ने इतनी सरल भाषा में प्रस्तुत किया है कि बिना पढ़ा लिखा गँवार भी समझ जाय।

विशेष विवरण

भाषा हिन्दी
शैली / रचना-पद्धति सिद्धांत
विषयवस्तु तत्वज्ञान, गीता ज्ञान
फॉर्मेट पेपरबैक
वर्गीकरण संकलन
लेखक जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज
प्रकाशक राधा गोविंद समिति
पृष्ठों की संख्या 90
वजन (ग्राम) 85
आकार 18 सेमी X 12 सेमी X 0.8 सेमी
आई.एस.बी.एन. 9789390373246

पाठकों के रिव्यू

  0/5