Sorry - this product is no longer available

Prema Rasa Siddhanta - 3 Bhagavat Kripa

The grace of God
READABLE ONLY ON JKBT
$ 1.50
Pages: 7

भगवान् जिसपर कृपा कर देता है एवं कृपा द्वारा अपनी दिव्य शक्ति प्रदान कर देता है वह बड़भागी जीव उस अज्ञेय ईश्वर को पूर्णतया जान लेता है। ईश्वर की कृपा से ही वास्तविक आनन्द को जानकर भगवान् के दिव्य धाम को प्राप्त किया जा सकता है।  

ईश्वर कृपा किसी आधार पर आधारित है। वह किसी कारण की अपेक्षा रखती है, बस कारण जो भी हो। जिसने उस कारण की पूर्ति कर दी उस पर ईश्वर की कृपा हो गयी और वह कृतार्थ हो गया। वे ही सन्त महात्मा हैं।