Your browser does not support JavaScript!

G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka 110075 New Delhi IN
JKP Literature
G-12, G-14, Plot No-4 CSC, HAF Sector-10, Dwarka New Delhi, IN
+918588825815 https://www.jkpliterature.org.in/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/621dbb04d3485f1d5934ef35/logo-18-480x480.png" [email protected]
640445ad43b8429948905597 Sadhan Sadhya - Hindi - Holi 2023 https://www.jkpliterature.org.in/s/61949a48ba23e5af80a5cfdd/640445c712dafe98e4de48f7/1587.jpg

श्री गुरुवर की अनन्त स्मृतियों के साथ, भगवान् की सर्वव्यापकता का दिव्य सन्देश देते हुए, यह पर्व निष्काम प्रेम की ओर प्रेरित करता है। अपने अनेक प्रवचनों में प्रिय गुरुवर ने प्रह्लाद चरित्र के माध्यम से निष्काम प्रेम का सिद्धान्त समझाया है। सच्चा साधक भगवान् से कभी कुछ नहीं माँगता। अपने शरण्य की इच्छानुसार, नित्य सेवा की लालसा से ही जीवन व्यतीत करता है।

‘साधन साध्य’ पत्रिका में होली माहात्म्य के अतिरिक्त परम प्रिय गुरुवर के जन्मशताब्दी समारोह की कुछ विशेष झलकियाँ प्रकाशित की गई हैं। वे अविस्मरणीय, अद्वितीय, अनुपम पल जब हजारों साधकों के नेत्र सजल हो उठे और हृदय प्रेम विह्वल।

भक्ति धाम में किस प्रकार से यह ऐतिहासिक समारोह हर्षोल्लास से मनाया गया यह अवर्णनीय है। वाणी और लेखनी दोनों की सामर्थ्य नहीं है फिर भी आइये पढ़ते हैं इस स्वर्णिम समारोह के कुछ स्वर्णिम पलों की गाथा।

श्रीमद् सद्​गुरु सरकार की जय!

अनन्त शुभकामनाओं सहित!

Sadhan Sadhya Holi 2023
in stockUSD 200
1 1
Sadhan Sadhya - Hindi - Holi 2023

Sadhan Sadhya - Hindi - Holi 2023

Language - Hindi

$2.4


SHARE PRODUCT
VARIANTSELLERPRICEQUANTITY

Description

श्री गुरुवर की अनन्त स्मृतियों के साथ, भगवान् की सर्वव्यापकता का दिव्य सन्देश देते हुए, यह पर्व निष्काम प्रेम की ओर प्रेरित करता है। अपने अनेक प्रवचनों में प्रिय गुरुवर ने प्रह्लाद चरित्र के माध्यम से निष्काम प्रेम का सिद्धान्त समझाया है। सच्चा साधक भगवान् से कभी कुछ नहीं माँगता। अपने शरण्य की इच्छानुसार, नित्य सेवा की लालसा से ही जीवन व्यतीत करता है।

‘साधन साध्य’ पत्रिका में होली माहात्म्य के अतिरिक्त परम प्रिय गुरुवर के जन्मशताब्दी समारोह की कुछ विशेष झलकियाँ प्रकाशित की गई हैं। वे अविस्मरणीय, अद्वितीय, अनुपम पल जब हजारों साधकों के नेत्र सजल हो उठे और हृदय प्रेम विह्वल।

भक्ति धाम में किस प्रकार से यह ऐतिहासिक समारोह हर्षोल्लास से मनाया गया यह अवर्णनीय है। वाणी और लेखनी दोनों की सामर्थ्य नहीं है फिर भी आइये पढ़ते हैं इस स्वर्णिम समारोह के कुछ स्वर्णिम पलों की गाथा।

श्रीमद् सद्​गुरु सरकार की जय!

अनन्त शुभकामनाओं सहित!

Specifications

LanguageHindi
GenreSpiritual Magazine
FormatMagazine
AuthorRadha Govind Samiti
PublisherRadha Govind Samiti
Dimension21.5cm X 28cm X 0.6cm
Number of pages84
Weight (gm)266

Readers Reviews

  0/5