RSS

Blog posts tagged with 'special message'

Guidelines for Devotees

Seven Step guidelines

Read guidelines in English

परमपूज्या बड़ी दीदी के द्वारा सत्संगियों के हित में जारी गाइडलाइंस

१- सदा सर्वत्र हरि गुरु को अपने साथ मानो। कभी मत सोचो हम अकेले हैं, वे सदा हमारी रक्षा कर रहे हैं और करेंगे। इस विश्वास को दृढ़ करो। रोकर उनको पुकारते रहो वे अवश्य तुम्हारी पुकार सुनेंगे।

२- निरंतर श्री महाराज जी की लीलाओं का, उनके गुणों का, उनके उपकारों का, उनकी कृपाओं का स्मरण करो।

३- मन को ख़ाली मत छोड़ो किसी न किसी साधन से उनके ही चिंतन में लगाए रहो। यूट्यूब पर उनके प्रवचन संकीर्तन सुनो, उसमें मन नहीं लगता तो DVD पर उनकी लीलाओं को देखो और रस लो। उसमें भी मन नहीं लगता तो कोई भी पुस्तक ले लो श्री महाराज जी के द्वारा लिखी गई और उसे पढ़ो। फिर भी मन इधर उधर भागता है तो श्री महाराज जी से ही रोकर प्रार्थना करो।

४- एक दूसरे के प्रति दुर्भावना मत करो, परस्पर सम्मान की भावना बढ़ाओ।

५- श्री महाराज जी ने जितना परिश्रम किया है उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती, उनका परिश्रम व्यर्थ न चला जाए उनके सिद्धांतों के अनुसार ही अपना जीवन व्यतीत करो।

६- निराश होना श्री महाराज जी का अपमान है। साधना न करने से ही निराशा आती है। साधना और सेवा दोनों ही आवश्यक हैं। श्वास श्वास से राधे नाम का जप करते हुए ही सेवा करो।

७- मोबाइल फ़ोन का उपयोग कम से कम करो, केवल ज़रूरी काम की बात ही करो अन्यथा उसमें भी महाराज जी का मैटर ही सुनो और देखो।

नव-प्रकाशित ई-पुस्तकें

साधक सावधानी (अंग्रेज़ी)        भक्ति की आधारशिला (हिंदी)         आत्म रक्षा (हिंदी)         आत्म कल्याण(हिंदी)         आत्म निरीक्षण (हिंदी)

 

 English

Our respected Badi Didi recommends the following guidelines for the welfare of all devotees:


1. Always believe that God and Guru are with you and that they are always protecting you. Strengthen your faith in this. Never think that you are alone. Keep calling out to them, with tears of love in your eyes, and one day they will surely hear you.

2. Always remember Shri Maharaj Ji - his pastimes and his qualities - and his acts of kindness and grace.

3. Keep your mind engaged in thoughts of Shri Maharaj Ji in whatever way appeals to you. Do not allow your mind to fly off here and there like a bird. Listen to Shri Maharaj Ji's sankirtans or watch his discourses on YouTube. If that does not hold your mind, then read any one of his books. If your mind still roams around, then in prayer, shed tears and ask for his grace.

4. Do not have any ill feelings towards one another. Pay attention to developing feelings of mutal respect towards each other.

5. The tireless efforts Shri Maharaj Ji exerted for our welfare is beyond anyone's imagination. Let us lead our lives adhering to his teachings, and never allow all his hard work to fritter away.

6. The onset of depression signifies a growing disrespect within for Shri Maharaj Ji. Feelings of sadness or despair only come about due to lack of spiritual practice. Both seva and spiritual practice are equally important. Perform your seva to God and Guru while remembering the name of Shri Radha on your every breath.

7. Be disciplined regarding the use of your mobile phone. Communicate only what is necessary to others and listen or watch Shri Maharaj Ji's content.

 

 

Newly published ebooks 

Sadhaka Savadhani (English)        Bhakti Ki Adharshila (Hindi)        Atma Raksha (Hindi)        Atma Kalyan(Hindi)        Atma Nirikshana (Hindi)